खास कलम :: सत्यशील राम त्रिपाठी के दोहे

यहाँ मिली हैं हड्डियाँ, वहाँ मिला है खून|
जंगल से बदतर हुआ, बस्ती का कानून||

आखिर कब कैसे हुई, दरवानों से चूक|
दूर देश से आ गई, दिल्ली में बंदूक||

कैसा ये विश्वास है, कैसा है अनुबंध|
सात भाँवरो ने गढ़े, जन्मो के सम्बन्ध||

जो भूखों की चीख का, नही जानता मर्म|
आखिर वो कैसे करे, जनहित कारी कर्म||

सिखा रही है कृषक को, मालिक की हर बेत|
भूखे सोना ठीक है, नही जोतना खेत||

आया है परदेश से, मेरे मन का राम|
घर मन्दिर जैसा हुआ, हृदय अयोध्या धाम||

तटबंधों को तोड़ती, छोड़ पर्वती छोर|
मुस्काने मढ़ने चली, नदी गाँव की ओर||

शाखों पर लगने लगी, बाज गिद्ध की भीड़|
गौरैय्या को चाहिए, छोड़ चले अब नीड़||

बढ़ी नदी की धार में, साहस की दरकार|
विजय मन्त्र है पढ़ रही, नाविक की पतवार||

धरती पर जब भी हुआ, अणु बम्बों का खेल|
सदियों के इतिहास में, मानवता को जेल||

क्षणिक सफलता ने किया, कुछ ऐसा मगरूर|
हाव-भाव के भँवर में, हुआ लक्ष्य से दूर||

गीदड़ की आवाज पर, सहमा सिंह समाज|
राजनीति ने काट दी, साहस की परवाज||
…………………………………………………….
परिचय : कवि की दोहा सहित कई रचनाएं प्रकाशित हो चुकी हैं.
संपर्क : ग्राम -रूद्रपुर, पोस्ट – खजनी, जिला – गोरखपुर, पिन- 273212
मो. 8052253857

 

 

Related posts

2 Thoughts to “खास कलम :: सत्यशील राम त्रिपाठी के दोहे

  1. Vinod Kumar

    Bahut hi Sundar pakti hirday ko chhu gai

  2. Sanjeev mishra

    Bahut shandar

Leave a Comment