बच्चों का कोना :: डॉ.जियाउर रहमान जाफरी 

Read Time:55 Second
शॉपिंग मॉल
   – डॉ.जियाउर रहमान जाफरी 
 चलो ना मम्मी शॉपिंग मॉल
 ले   आएंगे इक    फुटबॉल
 वहां पे  मिलती चीजें सारी
 अच्छी अच्छी प्यारी -प्यारी
 कपड़े   रंग-बिरंगे      होते
 कुछ भी   नहीं बे- ढंगे होते
 मिलती चीजें भी खाने की
 नहीं जरूरत समझाने की
 सब पर क़ीमत लिखी हुई है
 जो है जरूरत लिखी हुई है
 ऑफर   भी तो खूब यहां है
 इस क़ीमत पर और कहां है
 नहीं पसंद तो चेंज भी कर दें
 वो  फिर से अरेंज भी कर दें
 कैश नहीं भी तो क्या गम है
 पास   अगर जो एटीएम है
 और बहाने   करो ना मम्मी
 यहीं  मॉल है चलो ना मम्मी
——————————
संपर्क ::  हिंदी विभाग, मिर्जा गालिब कॉलेज गया,  बिहार
मो. 9934847941
Attachments area
Happy
Happy
0 %
Sad
Sad
0 %
Excited
Excited
0 %
Sleepy
Sleepy
0 %
Angry
Angry
0 %
Surprise
Surprise
0 %

Average Rating

5 Star
0%
4 Star
0%
3 Star
0%
2 Star
0%
1 Star
0%

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Previous post लघुकथाओं को अलग ढंग से परिभाषित करते हैं रमेश बत्तरा :: ऋचा वर्मा
Next post अगले जनम फिर आना : सिद्धिनाथ स्मृति – सतीश नूतन